1983 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य यशपाल शर्मा का निधन, स्कूल में खेली थी 260 रन की पारी

यशपाल शर्मा का निधन

पूर्व क्रिकेटर यशपाल शर्मा का मंगलवार को हार्ट अटैक से निधन हो गया। वे 66 साल के थे। यशपाल शर्मा लुधियाना के रहने वाले थे और 1983 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य भी रहे थे। 2011 में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम में भी यशपाल शर्मा की भूमिका अहम थी।

यशपाल शर्मा मूल रूप से पंजाब के लुधियाना के रहने वाले थे। उन्होंने क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद अंपायरिंग भी की थी। बाद में उन्हें टीम इंडिया का सिलेक्टर नियुक्त किया गया था।भारत ने क्रिकेट का पहला वर्ल्ड कप 1983 में जीता था, इस टीम का हिस्सा यशपाल शर्मा भी थे।

यशपाल को बेहतरीन क्रिकेटर बनाने में दिलीप कुमार की भी बड़ी भूमिका थी। खुद यशपाल शर्मा ने कहा था कि जब तक मैं जिंदा हूं दिलीप साहब मेरे पसंदीदा रहेंगे। लोग उन्हें दिलीप कुमार कहते हैं मैं उन्हें यूसुफ भाई कहता हूं। उन्होंने ही क्रिकेट में मेरी जिंदगी को बनाया था।

1978 में क्रिकेट करियर की शुरुआत की थी

यशपाल शर्मा ने अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत 13 अक्टूबर 1978 से की थी। यह मैच सियालकोट में पाकिस्तान के खिलाफ खेला गया था। बहुत कम लोगों को पता है कि यशपाल शर्मा अपने स्कूल के दिनों में क्रिकेट खेलते हुए 260 रन की पारी खेली थी। तभी से वे सुर्खियों में आ गए थे।

यशपाल ने आखिरी टेस्ट नवंबर 1983 और लास्ट वनडे जनवरी 1985 में खेला था। 37 साल की उम्र में यशपाल ने रेलवे के लिए खेलते हुए 1991-92 में लगातार शतक जमाए थे। यशपाल 2003 से 2006 तक सिलेक्टर रहे। उन्हें 2008 में फिर सिलेक्टर बनाया गया था। खराब फॉर्म के चलते वर्ल्ड कप के बाद यशपाल का करियर लगातार गिरता गया था।