वीर सावरकर के बारे में लोगों में गलत जानकारी, सही जानकारी लोगों तक पहुंचाई जाएंगी – मोहन भागवत

वीर सावरकर पर पुस्तक का विमोचन

वीर सावरकर पर लिखी पुस्तक के विमोचन के दौरान आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि आजादी के बाद से ही वीर सावरकर के बारे में लोगों में जानकारी का अभाव है। उन्होंने कहा कि लेकिन अब लोगों को इस पुस्तक के जरिए सही जानकारी मिल सकेगी।

मोहन भागवत ने कहा कि इसके बाद स्वामी विवेकानंद, स्वामी दयानंद सरस्वती और योगी अरविंद का नंबर है। उनके बारे में भी लोगों को सही जानकारियां पहुंचाई जाएंगी। वीर सावरकर पर लिखी पुस्तक के विमोचन कार्यक्रम में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के साथ-साथ रक्षामंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद थे।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मोहन भागवत ने कहा कि जो सावरकर के बारे में टिप्पणी करते हैं, उन लोगों में आज भी सावरकर को लेकर जानकारी का अभाव है, लोगों तक उनके बारे में गलत जानकारियाँ हैं।

भागवत ने आगे कहा कि आजादी के बाद से ही वीर सावरकर को बदनाम करने की मुहिम चलाई जा रही है। लेकिन अब इस पुस्तक से लोगों में ये भ्रम टूट जाएगा। इसके बाद स्वामी विवेकानंद, स्वामी दयानंद सरस्वती और योगी अरविंद का नंबर है, क्योंकि वीर सावरकर की ही तरह इनके बारे में भी गलत जानकारियां फैली हैं। वीर सावरकर जो भी थे, इन्हीं तीनों के विचारों से प्रभावित थे।

आरएसएस प्रमुख ने कहा, “भारतीय परंपरा धर्म से जुड़ती है, ये परंपरा उठाने वाली है न कि बिखेरने वाली। कुल मिलाकर ऐसे समझें कि भारतीय धर्म मानवता है। जो भारत का है, उसकी सुरक्षा और प्रतिष्ठा भारत से जुड़ी है।”