केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पुलवामा सीआरपीएफ कैंप में बिताई रात, शहीद जवानों को दी श्रद्धांजलि

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार सुबह पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए 40 जवानों को श्रद्धांजलि दी। अमित शाह ने सोमवार को पुलवामा जिले में शहीद स्मारक पर सीआरपीएफ जवानों के साथ वक्त बिताने के लिए जम्मू कश्मीर के अपने तीन दिवसीय दौरे को आगे बढ़ाने का फैसला किया था। रिपोर्ट के अनुसार अमित शाह इंटेलिजेंस ब्यूरो के निदेशक, सीआरपीएफ के डीजी और सचिव सहित दिल्ली के पूरे शीर्ष अधिकारियों के साथ जम्मू कश्मीर पहुंचे हैं।

अमित शाह की ओर से मंगलवार को सुबह ट्वीट किया गया कि पुलवामा के कायराना आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के बहादुर जवानों को आज पुलवामा शहीद स्मारक पर जाकर श्रद्धांजलि अर्पित की। देश की रक्षा हेतु आपका समर्पण और सर्वोच्च बलिदान आतंकवाद के समूल नाश के लिए हमारे संकल्प को और दर्द करता है। वीर बलिदानिओं को कोटि-कोटि वंदन।

इसके बाद गृह मंत्री अमित शाह ने पुलवामा के शहीद स्मारक पर वीर बलिदानियों की स्मृति में पौधारोपण भी किया। सोमवार को इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था कि वह अर्धसैनिक बलों के जवानों के साथ समय बिताना चाहते हैं। वह सोमवार रात सीआरपीएफ कैंप में ही रुके थे।

जवानों को श्रद्धांजलि देने से पूर्व गृह मंत्री अमित शाह ने अपने ट्विटर पर लिखा था, अर्धसैनिक बलों के जवानों के साथ समय बिताना चाहता था। उनसे मिलकर उनके अनुभव और कठिनाइयों को जानना और जज्बे को देखना चाहता था। इसलिए पुलवामा के लेथपोरा सीआरपीएफ कैंप में अपने बहादुर जवानों के साथ भोजन किया और रात्रि विश्राम भी कैंप के जवानों के साथ ही करूंगा।

अमित शाह ने सीआरपीएफ शिविर में सुरक्षा कर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि मैं एक रात आप लोगों के साथ गुजारना चाहता हूं और आपकी समस्याओं को समझना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश के उनके दौरे के दौरान यह सबसे अहम पड़ाव है। जम्मू कश्मीर में कल व्यवस्था की स्थिति बहुत हद तक सुधरी है। उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि वह अपने जीवन काल में शांतिपूर्ण जम्मू कश्मीर देख सकेंगे जिनका सपना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देखा है।