गर्भवती महिलाओं और नवजातों पर वैक्सीन के असर ब्योरा सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से मांगा

गर्भवती महिला पर वैक्सीन का असर

गर्भवती महिलाओं (Pregnant Women) और नवजात बच्चों (Childs) पर कोरोना वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) के असर को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से जवाब मांगा है। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से दो हफ्तों में जानकारी देने को कहा है।

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका(PIL) दाखिल की गई है जिसमें मांग की गई है कि गर्भवती महिलाओं और बच्चों को दूध पिलाने वाली माताओं को कोरोना वैक्सीन की डोज के लिए प्राथमिकता दी जाए।

सुप्रीम कोर्ट गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को उच्च जोखिम वाली श्रेणी घोषित करने और COVID-19 टीकाकरण के लिए प्राथमिकता देने के लिए केंद्र को निर्देश देने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया।

न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति बी वी नागरत्ना की पीठ ने दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग (डीसीपीसीआर) की याचिका पर केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया और दो सप्ताह के भीतर इस मामले में जवाब मांगा है।

बता दें कि हाल ही में एक याचिका में इस बात का सवाल उठाया गया था कि किसी को ये पता नहीं कि गर्भवती महिलाओं को जो कोरोना वैक्सीन दी जा रही है, उसका मां या बच्चे पर क्या असर पड़ रहा है।

याचिका में मांग की गई थी कि इसकी जांच की जाए और मां या बच्चे की सेहत पर कोई नकारात्मक असर का वैज्ञानिक जांच किया जाए। यह सब जनता को जानने का अधिकार है।