पीएम मोदी ने कहा, हमें गांवों को बचाना जरूरी, दिया थ्री T का मंत्र

पीएम मोदी थ्री T मंत्र

नई दिल्ली। महाराष्ट्र, केरल सहित देश के कई राज्यों में बेकाबू होते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर पीएम मोदी ने आज राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ अहम बैठक की। यह बैठक वर्चुअल थी। प्रधानमंत्री ने कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंता जताते हुए राज्यों को तीन T की मंत्र दिया। उन्होंने कहा कि हमें देशभर में टेस्टिंग, ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट पर फिर से जोर देना होगा।

पीएम मोदी ने कहा कि कई देशों में संक्रमण की कई लहरें देखने को मिल रही हैं। हमारे यहां भी महाराष्ट्र, केरल, पंजाब और मध्यप्रदेश जैसे राज्यों में केस काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। हमें इसे रोकने के लिए तेजी से काम करना होगा। इन सबके बीच लोग हैरान-परेशान न हों, हमें इसका भी बखूबी ध्यान रखना होगा।

PM मोदी ने कहा कि भारत में 96 प्रतिशत से भी ज्यादा केस रिकवर हो चुके हैं। हमारा देश उन चुनिंदा देशों में शामिल है जहां मृत्युदर सबसे कम है। कोविड-19 से प्रभावित ज्यादातर देशों में कोरोना की कई वेव आई हैं। हमारे देश के कुछ राज्यों में भी अब संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं।

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। देशभर के 70 जिलों में पिछले सप्ताह से कोरोना मामलों की तादाद 150 प्रतिशत तक बढ़ गई है। यदि इसे नहीं रोका गया तो आने वाले समय में ये पूरे देश में ऐसे मामले दिख सकते हैं। हमें कोरोना की दूसरी वेब को तुरंत रोकना होगा।

पीएम मोदी का थ्री T मंत्र

1. कोरोना संक्रमण जांच में लाएं तेजी – पीएम मोदी ने राज्यों से कहा कि RT-PCR टेस्ट को 70% करने की जरूरत है। 2 और 3 टियर शहरों में संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हमें इन्हें समय रहते रोकना होगा, वर्ना गांवों में मामले बढ़े तो संभालना मुश्किल हो जाएगा।

2. वैक्सीनेशन ड्राइव को और गति दी जाए – पीएम मोदी ने वैक्सीनेशन ड्राइव को और तेज करने की बात कही। उन्होंने राज्यों से वैक्सीन के वेस्टेज पर भा आगाह किया। उन्होंने कहा कि अब तक एक अनुमान के मुताबिक करीब 30 लाख वैक्सीन रोज लग रहे हैं। ऐसे में हमें इसे और गति देने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को इसके लिए जरूरी लगे तो वैक्सीनेशन सेंटर्स बढ़ाने चाहिए। उत्तरप्रदेश, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में वैक्सीन के वेस्टेज उन्होंने कहा कि इन राज्यों में वैक्सीन वेस्ट का आंकड़ा करीब 10 प्रतिशत तक पहुंच गया है। हमें वैस्टेज को रोकना होगा। उनकी एक्सपायरी डेट देखनी होगी। जो वैक्सीन पहले आई, उसका उपयोग पहले होना चाहिए।

3. जनता को परेशानी न हो, इसका ध्यान रखें – प्रधानमंत्री ने कहा कि संक्रमण को रोकने के लिए राज्य बंदिशें अपने हिसाब से तय करें। हमें इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि लोगों में दहशत न फैले। हमें दवाई भी-कड़ाई भी नियम का पालन करना होगा।

उन्होंने कहा कि इसके लिए मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और अन्य नियमों का कड़ाई से पालन करना और करवाना होगा। राज्यों को इसके लिए खुद बैठकें करनी चाहिए। उन्होंने राज्यों में माइक्रो-कंटेनमेंट जोन बनाने पर जोर दिया।