आंदोलन हुआ खत्म, टिकरी-सिंघु बॉर्डर अब होगा खाली

किसान आंदोलन खत्म

केंद्र सरकार द्वारा किसानों की मांगें पूरी करने के बाद एक साल से अधिक समय से जारी किसान आंदोलन अब खत्म हो गया है। संयुक्त किसान मोर्चा ने आंदोलन को खत्म करने का ऐलान कर दिया है।

आंदोलन खत्म करने के ऐलान के बाद टिकरी और सिंघु बॉर्डर से किसानों की घर वापसी शुरू हो गई है। संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) के धरना वापस लेने के फैसले की जानकारी मिलने के बाद पिछले एक साल से टिकरी सीमा पर डेरा डाले सैकड़ों किसान गुरुवार को अपने घर के लिए रवाना हो गए।

ट्रिब्यून इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, किसानों के पहले जत्थे में घर लौटने वाले पठानकोट, अमृतसर, तरनतारन, गुरदासपुर, होशियारपुर और फिरोजपुर जैसे दूर-दराज के स्थानों के थे, जबकि उनमें से अधिकांश ने आज सुबह (शुक्रवार) जल्दी वापस जाने के लिए अपना सामान पैक किया।

अमृतसर के रहने वाले किसान हरविंदर ने ट्रिब्यून इंडिया से कहा कि कल केंद्र द्वारा हमारी सभी मांगों को स्वीकार करने के बाद हम आज घर वापस जाने के बारे में आश्वस्त थे, इसलिए हमने पैकिंग कर ली थी। जैसे ही एसकेएम ने सिंघू सीमा से आंदोलन को वापस लेने की घोषणा की, हमने इन्हें ट्रैक्टर-ट्रेलरों और अन्य वाहनों पर लाद दिया।

गुरदासपुर के गुरजीत ने कहा कि उन्होंने अपने परिवार के अन्य सदस्यों को कल पंजाब से टिकरी बुलाया था ताकि वे हमारा सामान और अन्य सामान वापस वाहनों में ले जा सकें। उन्होंने कहा कि कुछ किसानों ने पहले अपने ट्रैक्टरों को कृषि उद्देश्यों के लिए गांव वापस भेज दिया था और उनके ट्रेलर सीमा पर खड़े थे, इसलिए वे भी ट्रेलरों को घर वापस ले जाने के लिए यहां ट्रैक्टर लाए।

बीकेयू नेता ने बहादुरगढ़ शहर और अन्य स्थानों के लोगों की मदद के लिए आभार व्यक्त किया। संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) के नेताओं द्वारा अपने एक साल के आंदोलन की जीत की घोषणा के तुरंत बाद पिछले एक साल से किसान आंदोलन के केंद्र रहे सिंघू सीमा पर जश्न शुरू हो गया।