धनतेरस पर करें यह उपाय, कभी नहीं होगी पैसों की किल्लत

धनतेरस पर दीपदान का महत्व

दीपावली पर्व अब बहुत ही नजदीक है। दीपावली पर्व की शुरुआत धनतेरस से मानी जाती है। इस बार धनतेरस 2 नवंबर 2021, मंगलवार को पड़ रहा है। धार्मिक ग्रंथों के मुताबिक, धनतेरस का पर्व कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है। किसी भी प्रकार की खरीदारी करने के लिए इस दिन को शुभ माना जाता है।

माना जाता है कि इस दिन धन के देवता भगवान कुबेर और धन्वंतरी की पूजा विधि विधान पूर्वक की जाती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, अगर आप आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं तो आप को धनतेरस पर कुछ खास उपाय करके इन संकटों से मुक्ति मिल सकती है। इन उपायों को करने से परिवार में हमेशा खुशियां रहती है और धन लाभ भी होता है। धन लाभ होने से घर के सारे दुख दूर हो जाते हैं। आइए जानते हैं इन उपायों के बारे में।

धनतेरस पर पीली वस्तु जैसे कि सोना, पीतल आदि खरीदने का प्रचलन है। अगर यह ना खरीद सकें तो धनिया या पीली सरसों खरीद सकते हैं। माना जाता है कि धनतेरस के दिन धनिया खरीदने से घर में लक्ष्मी जी का वास होता है। ऐसा करने से धन का आगमन होता है और घर से गरीबी दूर होता है।

धनतेरस के दिन पशुओं को खासकर गाय को कुछ ना कुछ खिलाना चाहिए। गाय की पूजा भी की जाती है। गाय को माता लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। आप भी धनतेरस पर गाय की पूजा कर सकते हैं। गाय की पूजा करने से घर के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं।

धनतेरस के दिन हल्दी का दान कर सकते हैं। इसके लिए धनतेरस वाले दिन आप बाजार से पीली हल्दी ले आए। इसके बाद उसे बिना सिले कपड़े में रखकर घर के मंदिर में स्थापित करें और उसकी पूजा करें। पूजा उपरांत हल्दी का दान कर दें। ऐसा करने से घर में जो भी नकारात्मक शक्तियां होती है वह घर से चली जाती हैं और घर में हमेशा खुशहाली बनी रहती है।

धनतेरस पर दीपदान करना बहुत ही शुभ माना जाता है। ज्योतिष के मुताबिक, धनतेरस पर दीपदान का विशेष महत्व है। माना जाता है कि ऐसा करने से यमराज प्रसन्न होते हैं और परिवार में किसी की भी अकाल मृत्यु का योग टल जाता है।।