अब बच्चों पर भी होगा कोवैक्सीन का परीक्षण, डीसीजीआई ने दी मंजूरी

कोवैक्सीन का इस्तेमाल

नई दिल्ली। भारत बायोटेक और आईसीएमआर के सहयोग से तैयार कोरोना से बचाव की वैक्सीन कोवैक्सीन का अब बच्चों में भी ट्रायल शुरू होने जा रहा है। विशेषज्ञों की कमेटी से मंजूरी मिलने के बाद बुधवार को ड्रग कंट्रोलर जनरल आफ इंडिया ने 2 साल से 18 साल के बच्चों के लिए ट्रायल की मंजूरी दे दी।

बता दें कि इससे पहले सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल आर्गेनाइजेशन की सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने इसके दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल की अनुशंसा की थी। भारत बायोटेक के कोवैक्सीन का यह परीक्षण दिल्ली, पटना के एम्स और नागपुर स्थित मेडिट्रिना चिकित्सा विज्ञान संस्थान समेत विभिन्न स्थानों पर 525 वॉलंटियर पर किया जाएगा।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, भारत बायोटेक ने फेज दो और तीन के ट्रायल की अनुमति मांगी थी, जिसके लिए 525 वॉलंटियर तैयार किए गए थे। वैक्सीन का ट्रायल दो डोज में किया जाएगा।

बता दे कि मंगलवार को केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड-19 विषय विशेषज्ञ समिति ने भारत बायोटेक द्वारा किए गए उस आवेदन पर विचार-विमर्श किया। इसमें कोवैक्सीन टीके की दो साल से 18 साल के बच्चों में सुरक्षा और रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने समेत अन्य चीजों का आकलन करने के लिए परीक्षण के दूसरे/तीसरे चरण की अनुमति देने का अनुरोध किया गया था।